donate
Mar
23

ये तीन भारतीय भी मंगल पर बनाएंगे अपना आशियाना

Posted on 23-03-2015 by Kuldeep Tyagi

  •  
हुर्रे, ये तीन भारतीय भी मंगल पर बनाएंगे अपना आशियाना!

वाशिंगटन। मंगल ग्रह पर मानव बस्ती बसाने की परियोजना अब 2024 से शुरू नहीं होगी। उसे दो वर्ष आगे यानी 2026 तक के लिए टाल दिया गया है। परियोजना के तहत चार लोगों की एक टीम को लाल ग्रह पर इंसानी बस्ती बसाने के लिए छोड़ कर आना है। इसके बाद हर दो वर्ष पर इतने ही लोगों को वहां छोड़ कर आना है। दिलचस्प बात यह है कि मंगल ग्रह पर बसने के इच्छुक जिन सौ लोगों के बीच अंतिम होड़ है, उनमें तीन भारतीय भी शामिल हैं।

ये हैं तीन भारतीय

मंगल पर बसने की होड़ में जिन तीन भारतीयों को अंतिम सूची में स्थान मिला है, उनमें पहला नाम यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल फ्लोरिडा में कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई करने वाले 29 वर्षीय तरनजीत सिंह भाटिया का है। इनके बाद दुबई में रह रहीं 29 वर्षीय रितिका सिंह भी लाल ग्रह पर बसने की इच्छुक हैं। मार्स पर घर बसाने की इच्छा रखने वालों की सूची में तीसरा नाम केरल के 19 वर्षीय शारदा प्रसाद का है।

मंगल पर बसने के इच्छुक संभावितों की यह अंतिम सूची फरवरी में जारी हुई थी। इस अंतिम सूची में शामिल 100 लोगों में से उन 24 भाग्यशाली लोगों का चयन किया जाएगा, जिन्हें लाल ग्रह पर जाने और वहां बसने को लेकर तकनीकी ट्रेनिंग दी जाएगी।

फंड की कमी से देरी

नीदरलैंड की गैर लाभकारी कंपनी मार्स वन लाल ग्रह पर इंसानी बस्ती बसाने की परियोजना संचालित कर रही है। कंपनी के सीईओ बैस लैंसडॉर्प ने परियोजना को दो साल आगे बढ़ाने की घोषणा की। उनका कहना है कि परियोजना में देरी का निर्णय फंड की कमी के चलते लिया गया है। लैंसडॉर्प के अनुसार, परियोजना में निवेश की कमी से 2018 में मंगल ग्रह पर एडवांस में भेजे जाने वाले रोबोटिक मिशन का काम धीमा गति से चल रहा है। इस मिशन के तहत एक लैंडर और आर्बिटर लाल ग्रह पर इंसानी दस्ते से पहले जाएंगे।

लाल ग्रह से क्यूरोसिटी ने भेजी शानदार सेल्फी

मंगल ग्रह पर अपने प्रवास के दौरान इस मिशन के तहत इंसानों के बसने के लिए अनिवार्य तकनीकी जरूरतों का अध्ययन किया जाएगा। सीईओ ने बताया, 'इस दिक्कत के चलते मार्स वन का इंसानी अभियान चार लोगों को लेकर 2024 की बजाय अब 2026 में मंगल के लिए शुरू होगा। इस प्रकार मंगल पर जाने वाला उक्त यान 2027 में अपने गंतव्य पर पहुंच जाएगा।

 

0 Comment